उत्तराखंड में नौकरी के नाम पर पेपर लीक करने वाले गैंग का भंडाफोड़, 6 आरोपी गिरफ्तार

0
363

देहरादून ब्यूरो- उत्तराखंड में अधीनस्थ चयन सेवा आयोग द्वारा 2021 में आयोजित स्नातक स्तर की परीक्षाओं में पेपर लीक करने वाले गैंग का भंडाभोड़ दिया है। इस मामले में एसटीएफ ने आयोग के पूर्व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही एसटीएफ ने 37 लाख की नगदी भी बरामद की। इस मामले में एसटीएफ ने पर्चा लीक कराने वाले कोचिंग सेंटर के मालिक को भी गिरफ्तार किया है।

ukssc

एसीटएफ के एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि यूकेएसएससी ने पिछले साल स्नातक स्तर की भर्ती परीक्षा का आयोजन किया था। जिसमें 1.60 लाख युवाओं ने भाग लिया था। लेकिन परीक्षा परिणाण के बाद कई संगठनों ने इन परीक्षाओं में गड़बड़ी की आसंका जताई थी। जिसको लेकर बेरोजगार संगठन ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री धामी ने एसटीएफ को यह जांच सौंपी थी। एसटीएफ ने बताया कि इस मामले मे 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। छानबीन में सामने आया कि मनोज जोशी ग्राम मयोली, थाना दनिया,जिला अल्मोड़ा 2014-15 से 2018 तक पीआरडी के जरिये अधीनस्थ चयन सेवा आयोग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पद पर तैनात था। 2018 में विभागीय शिकायत पर उसे विभाग से हटा दिया गयाथा। इससे पहले वह 12 वर्षों तक लखनऊ सूर्या प्रिंटिंग प्रेस मे काम करा था। देहरादून पंडितवाड़ी रहने वाला जयजीत दास आरएमएस टेक्नोलोस्यूसन इंडिया प्रा.लि. आउटसोर्स कंपनी के जरिये कम्पयूटर प्रोग्रामर के रूप में विभाग में काम कर रहा था। यही जयजीत दास और मनोज जोशी की मुलाकात हुई। यहीं मनोज जोशी जो चम्पावत का रहने वाला है उसकी यूकेएसएससी में आना जाना रहता था। वह भी प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। उसका आरोपी कुलबीर सिंह चौहान जो बिजनौर उत्तर प्रदेशका रहने वाला था के सम्पर्क में था।

उत्तराखंड में नौकरी के नाम पर पेपर लीक करने वाले गैंग का भंडाफोड़, 6 आरोपी गिरफ्तार

कुलवीर सिंह करनपुर डालनवाला में डेल्टा डिफेंस कोचिंग इंस्टीट्यूट डायरेक्टर पद पर तैनात था। कुलवीर चौहान ने कालसी के रहने वाले शूरवीर सिंह चौहान की मुलाकात चंपावत के रहने वाले मनोज जोशी से करवाई। किच्छा प्राइवेट स्कूल में शिक्षक और ग्रुप सी की तैयारी कराने वाले गौरव नेगी की भी मुलाकात मनोज जोशी हुई थी। कुलवीर सिंह और शूरवीर सिंह ने चम्पावत के मनोज जोशी को प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए तैयारी कर रहे बेरोजगारों के बारे में जानकारी दी। जिसके बाद यूकेएसएससी में पूर्व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी मनोज जोशी और कम्पयूटटर प्रोग्रामर जयजित दास के साथ चम्पावत मनोज जोशी ने पेपर लीक करने की साजिश रची।जिसेक लिए उन्हें 60 लाख रूपये भी दिये गये। रूपये लेने के बाद जयजित दास ने यूकेएसएससी के ऑफिस में जाकर पेपरों की सेटिंग और तकनीकी कार्यों के लिए प्रश्न पत्र की कॉपी ले लेता है। इन प्रश्न पत्रों को पूर्व चतुर्थश्रेणी कर्मचारी मनोजी जोशी को देता है। अब मनोज जोशी इन प्रश्न पत्रों को लेकर चम्पावत के मनोज जोशी. कोचिंग सेंटर के डायरेक्टर कुलवीर सिंह, शूरवीर सिंह और गौरव नेगी को देता है। परीक्षा से एक दिन पहले रामनगर के रिसोर्ट में मनोज जोशी के नाम पर 3 कमरे बुक किए जाते हैं। यहीं प्रश्नपत्रों को लीक किया जाता है। सभी छात्रों को उनके एग्जाम सेंटर तक छोड़ दिया जाता है।