गेहूं घटाया-चावल बढ़ाया..जून से प्रति यूनिट ऐसे मिलेगा सस्ते गल्ले से राशन

0
110
https://youtu.be/pa6HN61dSRw

सस्ते गल्ले के गेहूं पर केंद्र की कैंची, चावल का कोटा बढ़ाया, अब प्रति यूनिट तीन किलो की जगह एक किलो मिलेगा गेहूं, चावल दो की जगह चार किलो

नई दिल्ली/देहरादून, ब्यूरो। एक ओर भाजपा की सरकार देश में महंगाई पर लगाम लगाने में नाकामयाब रही है। वहीं, अब उत्तराखंड समेत कुछ अन्य राज्यों को मिलने वाले राशन पर भी सरकार कैंची चला चुकी है। अगले माह से राशन कार्ड धारकों को सस्ते गल्ले की दुकानों पर पहले जैसा राशन अब नहीं मिलेगा। सरकार ने प्रति यूनिट गेहूं की मात्रा घटा दी है। वहीं, चावल के कोटे में इजाफा किया गया है।

बता दें कि भाजपानीत केंद्र सरकार कुछ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत आवंटित किए जाने वाले गेहूं की मात्रा को घटा दिया है। खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अनुसार गेहूं के घटे हुए कोटे की भरपाई चावल से की जा रही है।

rashan0 sarkari rashan sarkari rashan niji dukano ko becha ja raha

उत्तराखंड, दिल्ली, गुजरात, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल के लिए कोटा कम कर दिया गया है। इसकी वजह गेहूं की कम खरीद होना बताया गया है। मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात में किसानों से इस बार गेहूं की कम खरीद हुई है। इन राज्यों में किसानों को खुले बाजार में व्यापारियों से अपनी उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक दाम मिले हैं। इसके अलावा अच्छी पैदावार करने वाले राज्यों पंजाब, हरियाणा, यूपी में उत्पादन भी इस बार पहले के मुकाबले कम हुआ है। इस संबंध में क्षेत्रीय विपणन अधिकारी सीएम घिल्डियाल ने बताया कि योजना के तहत उत्तराखंड में करीब 30 हजार मीट्रिक टन गेहूं-चावल मिलता है। अभी तक 18 हजार मीट्रिक टन गेहूं और 12 हजार मीट्रिक टन चावल का आवंटन होता था। लेकिन, अब गेहूं 7 हजार मीट्रिक टन और चावल का कोटा बढ़ाकर 23 हजार मीट्रिक टन कर दिया गया है।

sarkari rashan mei dhandlebazi

उत्तराखंड में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत 14 लाख से अधिक अंत्योदय एवं प्राथमिक परिवारों के राशनकार्ड धारकों को अगले महीने से प्रति यूनिट तीन किलो गेहूं के स्थान पर मात्र एक किलो गेहूं मिलेगा। जबकि चावल दो किलो के स्थान पर चार किलो मिलेगा। बता दें कि उत्तराखंड में अंत्योदय के 1.84 लाख से अधिक कार्डधारक हैं। इकसे अलावा प्राथमिक परिवारों के 12.27 लाख से अधिक राशन कार्ड धारक हैं।

गेहूं घटाया-चावल बढ़ाया..जून से प्रति यूनिट ऐसे मिलेगा सस्ते गल्ले से राशन