NEET परीक्षा में बैठने से पहले उतवाए किशोरी के अंतःवस्त्र, लड़की अभी भी सदमे में

0
235

नई दिल्ली, ब्यूरो। देश की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) परीक्षा में बैठने से पहले जबर्दस्ती युवतियों की ब्रा उतारने के लिए मजबूर करने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। लड़की की शिकायत के बाद हालांकि पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है, लेकिन युवती अभी तक सदमे में है। उसके पिता के अनुसार 17 वर्षीय बेटी से नीट परीक्षा केंद्र में बदतमीजी की गई। उसकी बेटी को बिना अंतःब्रस्त्र के तीन घंटे तक बैठना पड़ा। केरल पुलिस ने मंगलवार को परीक्षा के दौरान आपमानजनक अनुभव का सामना करने की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 354 और 509 के तहत केस दर्ज किया है।

दो दिन बाद आज हरकत में आई पुलिस, पीड़िता की शिकायत मुकदमा

बता दें कि केरल में रविवार को नीट परीक्षा के दौरान युवतियों के लिए अजीबोगरीब फरमान जारी किया गया। सभी युवतियों से परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले ब्रा समेत अन्य अंतःवस्त्र उतरवाए गए। पुलिस ने मंगलवार को उस कथित घटना के सिलसिले में केस दर्ज कर लिया है, जिसमें राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा में शामिल होने वाली युवतियों को कोल्लम जिले में परीक्षा में बैठने की अनुमति के लिए अंतःवस्त्र हटाने को कहा गया था। पुलिस के अनुसार कोल्लम जिले के अयूर इलाके में रविवार को एक निजी शिक्षण संस्थान में नीट परीक्षा का आयोजन किया गया था। यहां पर परीक्षा के दौरान कथित तौर पर लड़कियों को अपमान झेलना पड़ा था। दूसरी ओर इस घटना की निंदा करते हुए विभिन्न युवा संगठनों ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। केरल राज्य मानवाधिकार आयोग ने भी घटना की जांच के आदेश दिए हैं। आयोग ने कोल्लम ग्रामीण पुलिस अधीक्षक को 15 दिनों के भीतर रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश भी दिए हैं।

social e1658221733696

जानकारी के अनुसार केरल पुलिस की महिला अधिकारियों की एक टीम ने लड़की का बयान के बाद मामला दर्ज किया। उन्होंने कहा कि मामले में जांच शुरू की गई है और कथित तौर पर इस कृत्य में शामिल लोगों को जल्द अरेस्ट करेंगे। मामले ने एक दिन पहले सोमवार को उस दौरान तूल पकड़ा जब एक 17 वर्षीय एक लड़की के पिता ने मीडियाकर्मियों को इस संबंध में बयान दिया। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी नीट परीक्षा में देने गई थी। इस दौरान उसके साथ ऐसा अपमानजनक व्यावहार किया गया जिससे वह अभी तक उस सदमे से बाहर नहीं आ पाई है। बेटी को परीक्षा के लिए तीन घंटे से अधिक समय तक बिना अंतःवस्त्र के बैठना पड़ा था। लड़की के पिता ने एक टीवी चैनल से इंटरव्यू के दौरान कहा कि उनकी बेटी ने नीट बुलेटिन ड्रेस कोड के अनुसार ही कपड़े पहने हुए थे। इसके बावजूद वहां के मैनेजमेंट ने इतनी बदसलूकी युवती के साथ की है।