देहरादून, ब्यूरो :   भारत के अलग-अलग कोने में साइबर अपराधी की धरपकड़ तेज होती जा रही है। STF और साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन उत्तराखंड ने केदारनाथ हेलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर धोखाधड़ी करने वालों को गिरफ्तार किया है। भारत के विभिन्न कोनो में धोखाधडी करने वाले गिरोह को उत्तराखंड पुलिस ने बिहार से गिरफ्तार किया है।

दरअसल एक प्रकरण साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को प्राप्त हुआ था। जिसमें शिकायतकर्ता प्रशान्त यादव ने अपने साथ केदारनाथ यात्रा हेलीकॉप्टर सेवा देने के नाम पर फर्जीवाड़ा होने की बात कही थी। फर्जी फोन नम्बरों से शिकायतकर्ता से आरोपियों ने पहले तो सम्पर्क किया । और फिर हेलीकॉप्टर यात्रा सेवा ऑनलाइन बुक कराने के नाम पर शिकायतकर्ता से 1 लाख 18 हजार रुपए ठग लिए। पीड़ित व्यक्ति की तहरीर मिलने के बाद साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून ने मुकदमा दर्ज किया। और साइबर थाने के निरीक्षक विकास भारद्वाज को विवेचना सुपुर्द की गई। जहां मोबाइल नंबर और खातों की जानकारी से आरोपियों के तार बिहार से जुड़े होने का मामला सामने आया।

पुलिस ने आरोपी सेन्टी कुमार उर्फ विकास कुमार को बिहार के ग्राम धनबिगहा में उसके घर से गिरफ्तार किया है। साथ ही स्थानीय पुलिस की मदद से अन्य अभियुक्त निक्कु कुमार को बिहार के थाना वारिसलीगेज से पकड़ा है। आरोपियों के पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त 5 फोन, 7 एटीएम कार्ड  और एक क्यूआर कोड, सिम कार्ड के साथ विभिन्न बैंको की पास बुक और चेक बुक बरामद की है। इसके अलावा आरोपियों के पास से माइक्रो एटीएम कार्ड और नगदी भी बरामद की गई है। वहीं आरोपी निक्कु कुमार बिहार के थाना वारिसलीगंज से वांछित चल रहा है। ऐसे में अभियुक्त को बी वारंट पर तलब कर जरुरी कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि इससे पहले भी पर्यटन की आड़ में मां वैष्णो देवी हेलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर साइबर अपराधियों द्वारा फर्जी साइट तैयार कर धोखाधड़ी की गई है। पवन हंस हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा बुक कराने के नाम पर धोखाधड़ी से सम्बन्धित दो अभियुक्तों को नालन्दा, नवादा  बिहार से गिरफ्तार किया गया था। जिससे प्रतीत होता है कि नवादा बिहार हैली सेवा और अन्य विभिन्न माध्यमों से साइबर धोखाधड़ी देने वाला गढ़ बन चुका है, जिसे ध्वस्त किया जा रहा है।

उत्तराखंड पुलिस ने जनता से अपील की है कि वो किसी भी प्रकार के लोक लुभावने और टिकट बुक करने  वाले अंनजान अवसरो के प्रलोभन में न आएं। और किसी भी प्रकार की ऑनलाईन टिकट को बुक कराने से पहले उक्त साईट का वैरीफिकेशन जरुर कर लें। साथ ही स्थानीय बैंक, सम्बन्धित कम्पनी से भी जांच पड़ताल जरुर कर लें।