ड्रग्स फ्री देवभूमि को लेकर चप्पे- चप्पे पर होगी पुलिस की नजर, टास्क फोर्स का हुआ गठन

0
368

देहरादून ब्यूरो- ड्रग्स फ्री देवभूमि बनाने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर पुलिस विभाग ने कमर कस ली है। उत्तराखंड में नशा तस्करों पर कार्रवाई के लिए त्रिस्तरीय टास्क फोर्स बनाई गई है। इस टास्क फोर्स में प्रदेश स्तरीय, जिला स्तरीय और थाना स्तरीय एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स को शामिल किया गया है। इसे अभियान में एडीजी से लेकर थाना प्रभारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। ये टास्क फोर्स नशा मुक्ति केंद्र से लेकर कॉलेज और स्कूलों पर भी नजर रखेगी।

उत्तराखंड में नशे के काले कारोबार पर नकेल कसने के लिए उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने त्रिस्तरीय टास्क फोर्स का गठन किया है। इसमें प्रदेश स्तर पर अपर पुलिस महानिदेशक और पुलिस महानिरीक्षक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) को टास्क फोर्स पर को आवश्यक दिशा निर्देश देना का कार्य करेंगे। जिसमें प्रदेश स्तर पर एसएसपी एसटीएफ के एसएसपी टास्क फोर्स के नोडल अधिकारी होंगे। जिला स्तरीय टास्क फोर्स के एसपी क्राइम और एसपी ऑपरेशन नोडल अधिकारी होंगे और थाने स्तर पर थाना प्रभारी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स में पुलिस विभाग में पुलिसकर्मियों का चयन किया जायेगा। प्रदेश स्तर पर टास्क फोर्स सरकार और पुलिस के बीच समन्वय बनाने के साथ एनडीपीएस एक्ट से संबंधित सूचनाओं को देने का कार्य करेगी। जिला स्तर पर टास्क फोर्स नशा तस्करों पर कार्रवाई करने का काम करेगी साथ ही जिले मे चल रहे नशा मुक्ति केंद्रों पर निगरानी रखेगी। साथ ही टास्क फोर्स को निर्देश दिये गये हैं कि वे एनडीपीएस एक्ट में पकड़े गए अपराधियों का इतिहास खंगालने का काम भी करेगी और पहले पकड़े गये अपराधियों पर भी नजर रखी जायेगी। वहीं शिक्षण संस्थानों में गठित एंटी ड्रग सेल के नोडल अधिकारी और एनजीओ के साथ समन्वय भी बनाया जायेगा। अब साफ है कि ये टास्क फोर्स का एक ही मकसद होगा गी उत्तराखंड को नाश मुक्त बनाना। इस पूरे टास्क फोर्स को समय- समय पर डीजीपी अशोक कुमार भी निर्देशित करते रहेंगे।