बेरोजगारों से 1.42 करोड़ ठगने वाली 15000 की ईनामी शातिर महिला 3 साल बाद अरेस्ट

0
77

देहरादून, ब्यूरो। वर्ष 2019 में आजाद डिमरी ने थाना नेहरू कॉलोनी पर लिखित तहरीर दी कि नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में ओजस्वी एसोसिएट नाम से फर्म संचालित करने वाले मृणाल धूलिया और योगिता धूलिया ने उत्तरांखड आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में फार्मासिस्ट के पदों पर नौकरी लगवाने और उत्तराखंड सरकार से 90 पदों का सृजन करने के एवज में कई बेरोजगारों से करीब 1.42 करोड़ रुपये ठग लिए थे। इसके बाद दोनों पति-पत्नी देहरादून से फरार हो गए।

पुलिस टीम ने गहनता से विवेचना कर साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की। पुलिस ने अभियुक्त मृणाल धूलिया को 7-7-2020 को हरियाणा से गिरफ्तार किया था। वह वर्तमान में जेल में सजा काट रहा है। वहीं योगिता धूलिया अभियोग पंजीकृत होने के बाद से ही फरार चल रही थी। उसके विरुद्ध गैर जमानती वारंट जारी कर दिए गए थे साथ ही 15000 का ईनाम भी घोषित किया गया था।

mahila arest

ईनामी अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए थाना नेहरू कॉलोनी और एसओजी की संयुक्त टीम गठित की गई और मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया। गठित टीम ने वांछित चल रही ईनामी योगिता धूलिया को विगत 28-07-2022 को रायगढ़ महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया गया था। योगिता धूलिया ठगी के पश्चात से ही मुम्बई में ठिकाने बदल-बदल कर रह रही थी। वह अपनी पहचान गुप्त रखते हुए एप्टेक कंप्यूटर सेंटर में कंप्यूटर शिक्षक के तौर पर कार्य कर रही थी। उक्त अभियुक्ता को स्थानीय न्यायालय में पेश कर ट्रांजिट रिमांड प्राप्त कर देहरादून लाया गया। वहीं, फरार ईनामी अभियुक्ता की गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा रुपए 10000/- के पुरस्कार की घोषणा की गई है।

नाम पता गिरफ्तार आरोपी: योगिता धूलिया पत्नी मृणाल धूलिया उम्र 38 वर्ष निवासी ग्राम धुलकोट पो राजवाट कोटद्वार जनपद पौड़ी गढ़वाल हाल निवासी फ्लैट 401 बिल्डिंग नम्बर-12 ए-विंग गार्डिनिया तलोजा रायगढ़ नवी मुम्बई महाराष्ट्र।