देहरादून ( सौरभ बिष्ट) :   उत्तराखंड में 4 और 5 दिसंबर को हुई स्नातक स्तरीय परीक्षा मामले में अब पेपर लीक होने की बात सामने आई है। मामले का खुलासा करते हुए बेरोजगार संगठन से जुड़े युवाओं ने देहरादून प्रेस क्लब में पत्रकार वार्ता करते हुए पेपर लीक के तथ्य भी सामने रखे हैं। युवाओं का आरोप है कि पेपर होने से करीब 12 घंटे पहले ही पेपर के 63 प्रश्नों के उत्तर व्हाट्सअप के माध्यम से कुछ अभियर्थियों को भेज दिए गए थे ।

युवाओं ने व्हाट्सएप स्क्रीनशॉट के प्रमाण भी मीडिया के सामने रखे हैं,वही युवाओं का कहना है कि मामले में उन्होंने सरकार के साथ विभागों को भी पूर्व में ज्ञापन दिया था। लेकिन किसी ने भी उनके ज्ञापन का संज्ञान नहीं लिया। साथ ही युवाओं ने सरकार से मांग की है कि पूरे मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए।

आपको बता दें 6 नवंबर 2020 में समाज कल्याण अधिकारी, सहायक समीक्षा अधिकारी, सहायक चकबंदी अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी के साथ कई अन्य विभागों में 916 पदों पर उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने वैकेंसी निकाली थी। जिसमें करीब डेढ़ लाख युवाओं ने प्रतिभाग किया था जिसका पेपर 4 और 5 दिसंबर 2021 में हुआ था। जिसके बाद लगातार इस परीक्षा को लेकर सवाल खड़े हुए हैं जिसका आज प्रमाण बेरोजगार युवा संगठन द्वारा रखे गए हैं। वही मामले में अधिनस्थ चयन आयोग  का पक्ष लेना चाहा तो आयोग के सचिव का फोन बंद होने के चलते उनका पक्ष नही मिल पाया।