आप भी हो जाइए तैयार, दो साल बाद इस माह से खुल रही विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी

0
227
devbhoomi

वन विभाग की पेट्रोलियम टीम फूलों की घाटी में हुए नुकसान का ले चुकी है जायजा

चमोली, ब्यूरो। कोरोना के कारण दो साल तक बंद रही विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी इस बार पर्यटकों के लिए खोली जाएगी। वन विभाग की टीम इलाके में बर्फ हटाने के साथ घाटी में हुए नुकसान का भी जायजा ले चुकी है। जून माह में घाटी पर्यटकों के लिए खोलने की कवायद चल रही है। विश्व पर्यटन स्थलों में शुमार फूलों की घाटी सैलानियों के लिए जून के महीने में खोल दी जाएगी। घाटी और उसके मार्ग को खोले जाने की तैयारियों को लेकर वन विभाग की पेट्रोलिंग टीम ने बर्फबारी के बाद घाटी में हुए नुकसान का जायजा लिया। अब इस घाटी को पर्यटकों के लिए सुचारू किए जाने का पूरा प्लान बनाया जा रहा है।

.दिसंबर और जनवरी में भारी बर्फबारी के बाद पहली बार फूलों की घाटी रेंज के वन अधिकारी पेट्रोलिंग के लिए पहुंचे. 9 सदस्यों के दल ने 6 दिन तक क्षेत्र में पेट्रोलिंग की। पेट्रोलिंग दल के सदस्य अनूप कुमार ने बताया कि घाटी में बामणधोड़, दवारीपैरा के आसपास ग्लेशियर टूटकर आए हुए हैं, जो लगभग 14 से 15 फीट के हैं। अब इन्हें हटाकर रास्ता और घाटी को साफ करने की कवायद की जाएगी। यहां देश ही नहीं, बल्कि दुनिया भर से पर्यटक पहुंचते हैं और इस साल पर्यटकों के यहां अच्छी संख्या में पहुंचने की उम्मीद के चलते वन विभाग मुस्तैद नजर आ रहा है।

चमोली जनपद में स्थित फूलों की घाटी समुद्र तल से 3352 से 3658 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। 1982 में इस घाटी को विश्व धरोहर का दर्जा दिया गया था। इस घाटी में प्राकृतिक सौंदर्य के साथ वन्यजीवन के भी अनूठे नजारे दिखते हैं। पिछले 2 साल कोरोना महामारी के बीच घाटी में सैलानियों का आवागमन बंद था, लेकिन इस साल फूलों की घाटी में अच्छी संख्या में सैलानियों के पहुंचने की उम्मीद है।