कई पुराने मंत्रियों का कट सकता है पत्ता, राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म

देहरादून, ब्यूरो। उत्तराखंड में भाजपा ने बहुमत का आंकड़ा तो पार कर लिया है लेकिन फिलहाल नए मंत्रीमंडल, विधानसभा अध्यक्ष से लेकर प्रदेश के मुखिया को लेकर भी राज्य के राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म है। आज ही राज्यपाल ने वरिष्ठ भाजपा विधायक बंशीधर भगत को प्रोटेम स्पीकर बना दिया है। वहीं, अब स्पीकर यानी विधानसभा अध्यक्ष के पद पर वरिष्ठ भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री विशन सिंह चुफाल को नियुक्त किया जा सकता है। साथ ही वर्तमान में विधानसभा अध्यक्ष दिनेश चंद्र अग्रवाल को नए मंत्रीमंडल में जगह मिल सकती है।

आपको बता दें कि प्रदेश में नई सरकार में कौन मंत्री बनेगा और किसको विधानसभा अध्यक्ष पद की कमान मिलेगी इसको लेकर चुनाव परिणाम आने के बाद से ही राजनीतिक हलकों समेत आमजन के बीच इसकी खासी चर्चा है। नई कैबिनेट में पुराने चेहरों से इतर नए नामों की सूची लंबी होती जा रही है। अटकलें हैं कि छह बार के विधायक रहे वरिष्ठ नेता बिशन सिंह चुफाल को विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की भी चर्चा थी।

दूसरी ओर अब तक विधानसभा अध्यक्ष के पद पर रहे प्रेमचंद अग्रवाल को नई कैबिनेट में जगह मिल सकती है। दूसरी ओर मुख्यमंत्री की दौड़ में शामिल बताए जा रहे सतपाल महाराज और डॉ. धन सिंह रावत के हाथ कुर्सी नहीं लगी तो मंत्री बनना तो तय माना जा रहा है। पूर्व कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी, रेखा आर्य, अरविंद पांडेय का दावा भी पुख्ता लग रहा है। दूसरी ओर सूत्रों के अनुसार नए चेहरों के तौर पर महिला कोटे से ऋतु खंडूड़ी की एंट्री हो सकती है तो गढ़वाल से वरिष्ठ विधायक मुन्ना सिंह चैहान, प्रीतम पंवार भी लाइन में हैं। दलित कोटे से खजानदास और चंदनराम दास का भी नंबर लग सकता है। इस हिसाब से पुरानी कैबिनेट में शामिल रहे कुछ मंत्रियों का पत्ता कट सकता है। अब देखना होगा कि किसे भाजपा मंत्री पद की जिम्मेदारी देती है साथ ही किसे विधानसभा अध्यक्ष और नए मुख्यमंत्री के पद की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी।