बागेश्वर (मनोज टंगडिया): उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव पर्व की रणभेरी बज चुकी है। ऐसे में कई ऐसे दल भी सामने आ रहे हैं जिन्हें आप स्वयंभू कह सकते हैं या फिर यूं कहें कि उनके पास न तो संसाधन हैं और न ही इतना बड़ा जन समर्थन जो वह पूरे प्रदेश या प्रदेश की कुछ सीटों पर ही अपना प्रत्याशी मैदान में उतार सकें।

YOU MAY ALSO LIKE

ऐसा ही एक दल बागेश्वर में सामने आया है। इस दल के नेताओं खुद ही ऐलान किया है कि आर्थिक तंगी के कारण वह राज्य की 70 में से एक ही सीट पर चुनाव लड़ेंगे। जीत-हार किसकी होगी यह तो आप भी समझते हैं, लेकिन राजनीति कहीं न कहीं एक सेवा की बजाय एक व्यवसाय बन चुका है। अगर आप अच्छा इनवेस्ट करोगे तो अच्छी पार्टी और नेता आपको कैश कर लेंगे, अन्यथा ऐसे ही 70 में से एक ही सीट पर चुनाव लड़ना होगा।

uttarakhand

खैर चुनाव पर्व की रणभेरी बज चुकी है। विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही कुछ राजनीतिक पार्टियां भी अपनी उपस्थित दर्ज कराने के लिए चुनाव मैदान में उतरने का मन बना चुकी हैं। ऐसी ही पार्टियों में भारतीय चैतन्य पार्टी भी है। जो राज्य के 70 विधानसभा सीटों में से केवल बागेश्वर सुरक्षित सीट पर अपना प्रत्याशी उतारने का ऐलान कर चुकी है।

यह बात पत्रकार वार्ता के दौरान युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहन गिरी गोस्वामी ने कही। उन्होंने कहा कि जातीय व धार्मिक भेदभाव को समाप्त कर राजनीति को शुद्ध करने के लिए वह अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। आर्थिक तंगी के चलते वह केवल राज्य की एक ही सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं। दीन बन्धु दास बागेश्वर से पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी होंगे।

Leave your comment

Your email address will not be published.