रुद्रपुर से शिव अरोरा पर दांव लगा सकती है भाजपा
टिकट कटा तो ठुकराल थाम सकते हैं कांग्रेस या आम आदमी पार्टी का दामन
सियासतः उत्तराखंड में चुनाव से पहले दल-बदल की खबरों ने पकड़ी रफ्तार
रुद्रपुर सीट को लेकर कांग्रेस और भाजपा में मचा घमासान

रुद्रपुर (तापस विश्वास): उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की तारीख नजदीक आते ही दल-बदल का सियासी घमासान भी तेज होता जा रहा है। कल सुबह से लेकर अभी तक उत्तराखण्ड में दल-बदल की खबरों का बाजार गर्म है। कल जहां दिनभर वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री सरिता आर्या के भाजपा में जाने की खबरें चर्चाओं में रहीं वहीं शाम होते-होते रुद्रपुर विधायक राजकुमार ठुकराल के कांग्रेस या आप में जाने की चर्चा होने लगी। हांलाकि इसको लेकर अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन सूत्रों के अनुसार रुद्रपुर सीट पर इस बार भाजपा हाईकमान नए चेहरे को मैदान में उतारने के मूड में है और यहां से भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा का टिकट फाइनल माना जा रहा है। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि अगर विधायक राजकुमार ठुकराल का टिकट कटता है तो वह बगावत करते हुए कांग्रेस या आप में से किसी एक पार्टी का दामन थाम सकते है।

प्रदेश भी में चर्चा तो यहां तक है कि दिल्ली में अरोरा और ठुकराल समर्थकों की एक लॉबी ने डेरा डाला हुआ है। ऐसे में अगर ठुकराल का टिकट कटता है तो सियासत में घमासान मचना तय है। उधर एक चर्चा यह भी है कि रुद्रपुर सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर तैयारी कर रही पूर्व पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा आम आदमी पार्टी के बडे़ नेताओं के संपर्क में हैं और अगर विधायक ठुकराल कांग्रेस में आते हैं तो वह आप में जा सकती हैं। हांलाकि इस मामले में जब हमारी टीम ने उनसे बात की तो उन्होंने इसे अफवाह बताया और कहा कि चाहे टिकट मिले या ना मिले वह कांग्रेस में रहेंगी। उन्होंने विश्वास जताया है कि पार्टी उन्हें जरूर मौका देगी और कांग्रेस के बैनर पर वही इस सीट से चुनाव लडेंगी। उधर आज सुबह एकाएक भाजपा के तीन बड़े नेताओं के कांग्रेस में शामिल होने की खबरों से सियासी माहौल और गरमा गया। चर्चा है कि भाजपा के तीन बड़े चेहरे कांग्रेस हाईकमान के संपर्क में है और बहुत जल्द कांग्रेस में जा सकते हैं। कुल मिलाकर उत्तराखण्ड में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी घमासान चरम पर है और नेताजी के इधर-उधर जाने की खबरों ने जोर पकड़ा हुआ है।

Leave your comment

Your email address will not be published.