सवर्णों ने दलित दूल्हे की रोकी बारात, घोड़े से नीचे उतारा; जान से मारने की धमकी

0
317

अल्मोड़ा, ब्यूरो। अल्मोड़ा से एक ऐसी खबर सामने आ रही है जो आपको भी हैरान कर सकती है। आधुनिक युग में भी ऊंच-नीच और भेदभाव का यह जीता-जागता उदाहरण माना जा सकता है। यहां एक दूल्हे को उसी की शादी के दौरान कुछ सर्वणों ने घोड़े से नीचे उतार दिया और जान से मारने की धमकी भी दे डाली। दरअसल, सर्वण दबंग लोगों को यह नागवार गुजरा कि छोटी जाति का दलित दूल्हा उनके सामने कैसे घोड़े पर बैठ गया। अल्मोड़ा सल्ट विकासखंड के इस मामले में दूल्हे के पिता ने बेटे को शादी के दिन घोड़े से उतारकर अपमानित करने के साथ जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने अल्मोड़ा डीएम, एससीएसटी आयोग, राज्यपाल के साथ पीएम मोदी से भी इसकी शिकायत की है। उन्होंने मामले की जांच कर उन्हें न्याय दिलाने की गुहार लगाई है। दूसरी ओर गांव के ग्राम प्रधान विजय ध्यानी ने बताया कि इस स्थान से कोई घोड़े पर नहीं जाता है। किसी ने किसी को नहीं रोका। बेवजह मामले को तूल देने की कोशिश की जा रही है। वहीं, प्रभारी नायब तहसीलदार दीवान गिरी गोस्वामी का कहना है कि मामले की वह खुद जांच कर रहे हैं। वह मौके पर जाकर निष्पक्ष जांच पड़ताल कर रहे हैं।

dalit dulha

अल्मोडा जनपद के सल्ट इलाके के ग्राम थला तड़ियाल (मौडोली) निवासी और दूल्हे के पिता दर्शन लाल के अनुसार उनके बेटे विक्रम कुमार की विगत दो मई को शादी थी। आरोप है कि बरात प्रस्थान के वक्त लगभग साढ़े चार बजे थला तड़ियाल गांव के मजबाखली तोक के सवर्ण जाति की कुछ महिलाओं और कुछ पुरुषों ने दूल्हे को अनुसूचित जाति का होने के कारण घोड़े से जबरन उतारने और बारात रोकने की कोशिश की। इस दौरान आरोपियों ने दूल्हे को जाति सूचक शब्द भी कहे। धमकी दी कि अगर बरात नहीं रोकी तो बरातियों के लिए अच्छा नहीं होगा। दर्शन लाल ने इस मामले में सल्ट एसडीएम, अल्मोड़ा डीएम, एससी-एसटी आयोग, उत्तराखंड राज्यपाल से लेकर पीएम नरेंद्र मोदी तक शिकायती पत्र भेजकर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की है।

दूसरी ओर इस बारे में सल्ट तहसील के प्रभारी नायब तहसीलदार दीवान गिरी गोस्वामी का कहना है कि मामला संज्ञान में है। एसडीएम के निर्देश पर राजस्व उपनिरीक्षक सुभाष व कानूनगो चतर सिंह को जांच के लिए तुरंत गांव भेजा गया है। उन्होंने कहा कि वह खुद मौके पर जाकर जांच करेंगे। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उस आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

सवर्णों ने दलित दूल्हे की रोकी बारात, घोड़े से नीचे उतारा; जान से मारने की धमकी