लखनऊ ब्यूरो- यूपी के बलरामपुर में तीन दिन में तीन भाईयों को सांप ने डंस दिया, जिसमें दो सगे भाईयों की मौत हो गई और ममेरा भाई की हालत गंभीर बनी हुई है। सबसे पहले बड़े भाई को सांप ने डंसा उसके बाद अलगी ही दिन दूसरे भाई को भी डंस दिया। साथ ही ममेरे भाई को भी डंस दिया। इस घटना के बाद क्षेत्र में कई अटकलें लगाई जा रही है।

बलरामपुर के ललिया थाना क्षेत्र के भवानियापुर गांव में यह अजीबो गरीब घटना देखने के मिली। यहां सोमवार की रात को बड़े भाई अरविंद मिश्रा को सांप ने अपना निशाना बनाया। जिसके बाद उसे बहराइच जिला अस्पताल ले जाया गया। यहां इलाज के दौरान मंगलवार को उसकी मौत हो गई। फिर अगले दिन उसका अंतिम संस्कार किया गया। भाई की अंत्येष्टि के बाद थका हुआ छोटा भाई गोविंद मिश्रा भी रात नौ बजे खाना खाने के बाद सो गया। बगल में उसकी पत्नी भी सोई हुई थी। वहीं बाहर बरामदे में गोविंद का ममेरा भाई चंद्रशेखर भी सो रहा था। रात में दोनों को सांप ने डंस लिया। थके होने के कारण उन्हें पहले पता नहीं चला। लेकिन रात एक बजे के लगभग दोनों की तबीयत खराब हो गई। दोनों के पेट में दर्द होने लगा और उनकी आंखों से धुंधला दिखाई दे रहा था। जिसके बाद गोविंद और चंद्रशेखर को श्रावस्ती के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में जा जाया गया। वहां से गोविंद को सिरसिया के जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां से भी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे बहराइच रेफर कर दिया। बहराइच जिला अस्पताल में गुरुवार को सुबह दस बजे गोविंद की मौत हो गई। वहीं चंद्रशेखर की हालत भी गंभीर बनी हुई है। चंद्रशेखर को भी बहराइच जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। डॉक्टरों ने गोविंद की मौत का कारण सांप का काटना ही बताया। उसके पैर की उंगली पर सर्पदंश का निशान भी मिला है। इस घटना के शुक्रवार को डॉक्टरों की एक टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण भी किया है। वहीं तीन दिनों में दो जवान बेटों की मौत के बाद दो बेटों को गंवा चुके मां और पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। अरविंद और गोविंद की पत्नियां भी बेसुध पड़ी हुई हैं। पिता की माली हालत ठीक नहीं है इसलिए प्रशासन ने उन्हें आर्थिक मदद देने का आश्वासन भी दिया है। लेकिन इस घटना के बाद गांव में चर्चाएं हो रही हैं। हर कोई यही कह रहा है कि आखिर सांप ने तीनों भाईयों को ही क्यों काटा। गोविंद के साथ तो उसकी पत्नी भी सो रही थी लेकिन उसे सांप ने नहीं काटा।