हल्द्वानी ब्यूरो- विजिलेंस के टीम ने आज रिस्वत लेते हुए एक कानूनगो को रंगे हाथों गिरफ्तार किया। यह रिश्वतखोर कानूनगो दस हजार रिश्वत लेते हुए हल्द्वानी से गिरफ्तार किया गया है। जिसका नाम बनवारी लाल बताया जा रहा है। इस कानूनगो खाता खतौनी और दाखिल खारिज में नाम चढ़ाने के नाम पर दस हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। विजिलेंस की टीम अब कानूनगो से पूछताछ पर जुट गई है।

हल्द्वानी के बरेली रोड़ निवासी जफर खान ने विजिलेंस में शिकायत दर्ज करवाई थी कि 2020 में कुसुमखेड़ा, हल्द्वानी की एक जमीन बेची थी। जिसमें जमीन खरीदने वाले का दाखिल खारिज और खतौनी में नाम चढ़ाना था। जमीन खरीदने वाला खरीदने वाले ने दाखिल खारिज और खतौनी में नाम चढ़ाने के लिए तहसील में हल्द्वानी के रजिस्ट्रार कानूनगो बनवारी लाल से मुलाकात की। बनवारी लाल ने दस्तावेजों में नाम चढ़ाने के एवज में उन से 15 हजार रुपये की मांग की। जिस पर चार दिन पहले 5 हजार रुपये बनवारी लाल को दे दिये गये थे। लेकिन बनवारी लाल 10 हजार और देने की मांग कर रहा था। 10 हजार रिश्वत न देने पर कानूनगो शिकायतकर्ता का कार्य नहीं कर रहा था। जिसके बाद शिकायतकर्ता ने विजिलेंस में शिकायत की। इसके बाद एसपी विजिलेंस प्रहलाद नारायण मीणा ने गोपनीय जांच कराई।  जिसमें यह सामने आया कि बनवारी लाल काम करने के लिए रिश्वत लेता है।जिसके बाद बनवारी लाल को पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया। जिसके बाद विजिलेंस ने 10 हजार की रिश्वत लेते हुए उसे रंगे हाथों गिरफ्तार किया। विजिलेंस ने आरोपी पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर दिया है। साथ ही विजिलेंस अब यह भी जांच कर रही है कि बनवारी लाल के साथ किसी अधिकारी की संलिप्तता थी या नहीं।