सेना के जुनून ने बनाया एक दूध पीते बच्चे की मां को ऑफिसर

0
24
Rigzin Chorol
Rigzin Chorol

Rigzin Chorol की कहानी रुला देगी आपको

Rigzin Chorol: एक वीर की पत्नी जिसने अपने पति की शहादत को अपनी कमजोरी नहीं बनाई, अपने आसुओं को उसने थामे  रखा और इन्हीं थामे हुए आसुओं को उसने अपनी ताकत बनाया और निकल पड़ी अपने 11 महीने के कठिन सफर पर। ये सफर इतना आसान न था, इस दौरान एक पत्नी अपने पति के सपने को पूरा जरूर करने निकली थी लेकिन वो एक मां भी थी जो अपने दूध पीते 11 महीने के बच्चे को छोड़कर निकल पड़ी इस कठिन सफर की ओर।

जिनकी हम बात कर रहे हैं उनका नाम है रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol), जिन्होंने अपने पति को हमेशा हमेशा के लिए खो दिया। सेना में जब किसी वीर की शहादत होती है तो उसके घरवालों को उस पर गर्व जरूर होता है लेकिन कहीं न कहीं अपने बेटे, पति और पिता के जाने का गम भी होता है। एक पत्नी जब अपने पति को हमेशा हमेशा के लिए खो देती है तो उस वक्त उसके लिए कुछ भी सोचना बहुत मुश्किल हो जाता है, लेकिन एक वीर की पत्नी के अंदर ऐसा जिगरा होता है जो उसे हर परिस्थिती में अडिग रहने की हिम्मत देता है।

ये भी पढ़ें:
Black Magic Village
यहां के बच्चे तक जादू से कर सकते हैं आपको गायब

ऐसा ही कुछ रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol) के साथ भी हुआ जिनके पति देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए। आपको बता दें कि हाल ही में भारतीय सेना में महिला ऑफिसर के तौर पर शामिल हुई लेफ्टिनेंट रिगजिन शोरोल के पति राइफलमैन रिगजिन खांडप देश की सेवा करते हुए शहीद हो गए।

राइफलमैन रिगजिन खांडप लद्दाख स्काउट्स की जेडांग सुंपा बटालियन में तैनात थे। अपनी ड्यूटी के दौरान ही राइफलमैन रिगजिन खांडप शहीद हो गए, जिसके बाद उनके परिवार समेत पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ पड़ी। पति की शहादत को रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol) ने अपनी कमजोरी नहीं बनने दिया। उन्होंने हिम्मत जुटाई और अपने पति के सपने को पूरा करने के लिए और अपने बच्चे के सपने को पूरा करने के लिए निकल पड़ीं।

Rigzin Chorol
Source: Social Media

जिस वक्त उनके पति शहादत को प्राप्त हुए थे उस वक्त रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol) और रिगजिन खांडप का एक नवजात शिशु था जो अपने पिता से कभी मिल ही नहीं पाया। जब इनका बच्चा 11 महीने का हुआ तो रिगजिन शोरोल दिसंबर 2021 को अपने पति के सपने को पूरा करने के लिए निकल पड़ीं।

इस कड़ी ट्रेनिंग के दौरान रिगजिन खांडप (Rigzin Chorol) अपने दूध पीने वाले बच्चे से दूर रहीं। लेकिन जब 11 महीने की ट्रेनिंग के बाद रिगजिन ने भारतीय सेना की वर्दी पहने अपने बच्चे को अपनी गोद में उठाया तो ये दृश्य देख हर किसी की आखों में खुशी के आसू थे और उस वीर की पत्नी के लिए सम्मान।

ये दृश्य जब कैमरे में कैद हुआ तो जिसने भी इस वीडियो को देखा उनकी आखों में लेफ्टिनेंट रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol) के लिए एक सम्मान था और देखते ही देखते ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं। लेफ्टिनेंट रिगजिन शोरोल (Rigzin Chorol) की ये कहानी देश की कई महिलाओं को प्रेरित करती है कि चाहे जो हो जाए विपरीत परिस्थितियों के आगे कभी झुकना नहीं चाहिए। ऐसी वीर नारी को देवभूमि न्यूज का सलाम।

ये भी पढ़ें:
Transparent Toilet in Japan
क्यों बनाए गए हैं ये ट्रांसपेरेंट पब्लिक टॉयलेट?

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com