राजस्थान में रार, कौन होगा मुखिया इस बार? जादूगर का खेल “पायलट “प्रोजेक्ट फ़ेल

0
222
rajasthan

Rajasthan संकट से कौन उबारेगा इस बार, काँग्रेस की अटकी है जान

Rajasthan में नाटकीय घटनाक्रम के बीच अशोक गहलोत के वफादार माने जाने वाले विधायकों ने अपना इस्तीफा रविवार रात को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी को सौंप दिया। Rajasthan में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के वफादार कई विधायकों द्वारा विधायक दल की बैठक से पहले अपने इस्तीफे देने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता राज्य में गतिरोध को दूर करने का प्रयास कर रहे हैं और मल्लिकार्जुन खडगे और अजय माकन जयपुर में ही हैं।

गहलोत के खास माने जाने वाले विधायक राज्य में सचिन पायलट को अगला मुख्यमंत्री बनाए जाने की अटकलों से नाराज हैं। काँग्रेस विधायक दल की बैठक मुख्यमंत्री निवास पर रविवार को होनी थी, लेकिन उससे पहले ही गहलोत के खास माने जाने वाले विधायक संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल के बंगले पर बैठक करने के बाद जोशी के आवास पर पहुंचा और अपना इस्तीफा दे दिया।

Rajasthan संकट का हल निकालेंगे पर्यवेक्षक, सोनिया गांधी को देंगे रिपोर्ट

rajasthan

काँग्रेस विधायक दल की बैठक के लिए Rajasthan जयपुर आए पार्टी पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खडगे और अजय माकन सोमवार को दिल्ली लौटकर राज्य में मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम पर अपनी रिपोर्ट सोनिया गांधी को देंगे। माकन ने कहा “अब हम दिल्ली जा रहे और अपनी पूरी रिपोर्ट काँग्रेस अध्यक्ष को सौंपेंगे” उन्होने काँग्रेस के कई विधायकों के विधायक दल की बैठक में नही आने को अनुशासनहीनता बताया है और आगे देखेंगे कि इस पर क्या कारवाई होती है ।

Rajasthan संकट पर बीजेपी का कटाक्ष, अंतर्कलह से जन्मी सरकार जिसका हाल बेहाल

Rajasthan विधानसभा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौर ने जयपुर में सोमवार को कहा जब पूरे मंत्रिमंडल ने इस्तीफा दे दिया है तो अकेले मुख्यमंत्री क्या करेंगे ?उन्होने कहा कि अगर गहलोत में हिम्मत है तो ऐसे समय में मंत्रिमंडल की आपात बैठक बुलाकर सदन को भंग कर देना चाहिए। चूँकि राजस्थान की सरकार अस्थिर हो चुकी है ऐसे में मुख्यमंत्री को नजीर पेश करते हुए अपना इस्तीफा भी दे देना चाहिए। उनके अनुसार इस सरकार का जन्म ही अंतर कलह से हुआ है जहां पहली बार बहादुर विधायकों ने अपने आलाकमान को ललकारा है।

ये भी पढ़ें  Operation MeghChakra:बच्चों के अश्लील वीडियो के खिलाफ सीबीआई का बड़ा एक्शन,20 राज्यों में 56 जगह छापेमारी

Rajasthan के खफा विधायकों की मांग, राष्ट्रीय अध्यक्ष करें फैसला- हम हैं तैयार

Rajasthan के नाराज विधायकों ने अब गेंद नेतृत्व के पाले में फेंक दी है। उनका कहना है की जब तक इस बात पर सहमति नहीं बनेगी, तब तक कोई विधायक बैठक में शामिल नहीं होगा। इस बीच भाजपा के जगदीश शर्मा बोले हम उन लोगों को स्वीकार नहीं करेंगे जिन्होने अपनी ही सरकार के खिलाफ विद्रोह किया था। उधर यह बात भी पता चली है कि अक्टूबर में राष्ट्रीय अध्यक्ष के फैसले के बाद ही मुख्यमंत्री का फैसला होगा और तब तक कोई बात नहीं होगी।

For Latest National News Subscribe devbhoominews.com