देहरादून (संवाददाता): उत्तराखंड में कोविड-19 संक्रमण के मामलों का विश्लेषण करने पर ज्ञात हुआ है कि अभी तक कोविड-19 पॉजिटिव सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग में केवल 54 प्रतिशत सैंपल में ओमीक्रोन वेरिएंट पाया गया है।

स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ तृप्ति बहुगुणा ने आज यह बताया कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण के 2255 पॉजिटिव सैंपल की जिनोम सीक्वेंसिंग दून मेडिकल कॉलेज लैब द्वारा की गई जिसके सापेक्ष 159 की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है और इसमें से केवल 85 सैंपल में ओमीक्रोम वैरीअंट पाया गया है। आज रविवार को उत्तराखंड स्वास्थ्य महानिदेशक ने बताया कि कोविड-19 के नए स्वरूप के इस वैरी अंट से सतर्क रहना है लेकिन घबराने की आवश्यकता नहीं है। हमें कोविड- 19 अनुरूप व्यवहार अपनाएं जाने की नितांत आवश्यकता है और यही सावधानी हमें महामारी के संक्रमण से बचाएगी और वेरिएंट का ट्रांसमिशन रुकेगा।

YOU MAY ALSO LIKE

डॉ तृप्ति बहुगुणा ने बताया कि विश्व में सभी जगह पर ओमी क्रोन वैरीअंट अन्य सभी वेरिएंट को रिप्लेस कर रहा है और इसके प्रभाव अधिक घातक नहीं आ रहे हैं। अधिकांश लोग जो कोविड-19 संक्रमण से प्रभावित हैं उनमें हल्की लक्षणअथवा लक्षण रहित है तथा होम आइसोलेशन मैं रह कर ठीक हो जा रहे हैं। इस प्रकार यह देखा गया है की उम्मीक्रोन वेरिएंट जन स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरे के रूप में परिलक्षित नहीं हो रहा है लेकिन हमें कोविड-19 व्यवहार को हमेशा और अनिवार्य रूप से पालन करते रहना होगा तभी हम इस महामारी से बच सकते हैं। उत्तराखंड में कोविड-19 संक्रमण के पॉजिटिव मामलों का जिनोम सीक्वेंसिंग दून मेडिकल कॉलेज लैब में किया जा रहा है और अभी तक जितने भी मामले कोविड-19 पॉजिटिव आते हैं उनमें से लगभग 15% सैंपल की जिनोम सीक्वेंसिंग की जा रही है।

Leave your comment

Your email address will not be published.