NCERT पाठ्यक्रम में हुए बदलाव के बाद विपक्ष ने साधा मोदी सरकार पर निशाना

0
338
NCERT Syllabus Rationalisation

Uttarakhand Devbhoomi Desk: राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) की पाठ्यपुस्तकों में लगातार बदलाव हो रहे हैं। इसके बाद कई (NCERT Syllabus Rationalisation) सवाल भी उठ रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसको लेकर विपक्ष मोदी सरकार पर निशाना साध रहा है। आपको बता दें कि कांग्रेस के पूर्व दिग्गज नेता और राज्यसभा के सदस्य कपिल सिब्बल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भारत के अनुरूप, आधुनिक भारतीय इतिहास 2014 से आरंभ होना चाहिए। वहीं, असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि एक तरफ केंद्र सरकार एनसीआरटी की किताबों से मुगल इतिहास मिटा रही है और दूसरी तरफ चीन वर्तमान मिटा रहा है।

ये भी पढ़ें:
Coronavirus in Uttarakhand
उत्तराखंड में फिर से पैर पसार रहा कोरोना, सक्रिय मामलों में भी हुई बढ़ोतरी

NCERT Syllabus Rationalisation: ये हटाया गया

आपको बता दें कि नए सत्र 2023-24 के (NCERT Syllabus Rationalisation) लिए NCERT की नई किताबें आ चुकी हैं। ऐसे में एनसीईआरटी के पुस्तकों में कई बदलाव देखें गये है। बताया जा रहा है कि कक्षा 12वीं के लिए इतिहास, नागरिक शास्त्र और हिंदी के सिलेबस में कुछ बदलाव किए हैं। किताब में से वह तथ्य हटा दिए हैं जिसमें महात्मा गांधी की हिंदू मुस्लिम एकता की खोज ने हिंदू चरमपंथियों को उकसाया। इसके अलावा वह भी हटा दिया गया है जिसमें महात्मा गांधी की हत्या के बाद आरएसएस को कुछ समय के लिए प्रतिबंध कर दिया गया था। ऐसे में कई अन्य तथ्य हटा दिए गये हैं।

ये भी पढ़ें:
Corona in Uttarakhand
चारधाम यात्री जरूर करें कोरोना के इन गाइडलाइन का पालन

For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com