मथुरा-अयोध्या में नहीं बिकेगी शराब-बीयर और भांग, बंद की ये 29 सरकारी ठेके

मथुरा-अयोध्या को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला, इस फैसले से होगा 40 हजार करोड़ का नुकसान

मथुरा, ब्यूरो। अयोध्या में भगवान श्रीराम मंदिर क्षेत्र के साथ ही मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मक्षेत्र में उत्तर प्रदेश सरकार ने शराब, बीयर और भांग नहीं बिकेगी। इलाके के सभी ठेके आज से बंद कर दिए गए हैं। श्रीराम मंदिर क्षेत्र में आने वाली शराब दुकानों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं। इसके अलावा श्रीकृष्ण जन्मस्थान के आसपास के क्षेत्र में शराब की बिक्री पर बुधवार से पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया है। (मथुरा-अयोध्या में नहीं बिकेगी शराब-बीयर और भांग, बंद की ये 29 सरकारी ठेके) इन शराब, बीयर और भांग की दुकानों के बंद होने से उत्तर प्रदेश सरकार को चालीस करोड़ के राजस्व का नुकसान उठाना पड़ेगा। बता दें कि मथुरा जिले में ऐसी 698 दुकान हैं। इनमें 184 देशी, 211 अंग्रेजी, 240 बीयर, 9 माडल शाप और 54 भांग की दुकानें शामिल हैं। जिला आबकारी अधिकारी कुमार प्रभात चंद ने बताया कि इनमें से 29 दुकानों को बंद करा दिया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि नौ दुकान पहले ही बंद थीं, इनका नवीनीकरण नहीं हो सका था।

राम नगरी अयोध्या और श्रीकृष्ण जन्मस्थली मथुरा को लेकर योगी सरकार ने बड़ा फैसला किया है। अब भगवान श्रीराम मंदिर क्षेत्र में शराब नहीं बिकेगी। श्रीराम मंदिर क्षेत्र में आने वाली शराब दुकानों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं। मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान के आसपास के क्षेत्र में शराब की बिक्री पर बुधवार से पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया है। मथुरा में आज यानी बुधवार 1 जून से शराब, बीयर व भांग की 29 दुकानों आज ताला जड़ दिया गया। जानकारी के अनुसार दही और दूध वाली दुकानें बढ़ाई जाएंगी। मथुरा शहर के तीन होटलों के बार व दो मॉडल शॉप भी आज से नहीं खुलेंगी। मथुरा को तीर्थ स्थल घोषित करते हुए जन्मस्थान के आसपास के क्षेत्र में शराब और मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था।

चार बच्चों की मां ने दो जीवित संतान बता जीता ये चुनाव, जांच हुई तो गई कुर्सी

उत्तर प्रदेश विधान परिषद में विगत मंगलवार को एक सवाल का जवाब देते हुए आबकारी मंत्री नितिन अग्रवाल ने बताया था कि अयोध्या में प्रभु श्री राम मंदिर क्षेत्र में आने वाली सभी शराब की दुकानों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं। सवाल बसपा सदस्य भीमराव अम्बेडकर ने पूछा था, जिसका जवाब मंत्री नितिन अग्रवाल ने दिया था।