Mahashivratri 2022: फूलों से सजाया गया भगवान केदार का शीतकालीन गद्दीस्थल आंकारेश्वर मंदिर

0
275
devbhoomi

रुद्रप्रयाग (संवाददाता- नरेश भट्ट): द्वादश ज्योतिर्लिंगों में अग्रणी व पर्वतराज हिमालय की गोद में बसे भगवान केदारनाथ के कपाट खोलने और पंचमुखी चल विग्रह

YOU MAY ALSO LIKE

उत्सव डोली के ऊखीमठ से कैलाश रवाना होने की तिथि कल महाशिवरात्रि पर्व पर शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर में रावल भीमाशंकर लिंग, मन्दिर समिति के पदाधिकारियों, विद्वान आचार्यों व हक-हकूकधारियों की मौजूदगी में पंचाग गणना के अनुसार घोषित की जायेगी। मन्दिर समिति द्वारा कपाट खोलने की तिथि घोषित होने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं तथा भगवान केदारनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर को आठ कुंतल फूलों से सजाया गया है। वहीं शिवरात्रि से पहले केदारनाथ मंदिर का श्रृंगार बर्फ ने किया है। धाम में पांच फीट तक बर्फ पड़ी है। केदारनाथ धाम में चारों ओर सिर्फ बर्फ ही बर्फ है।

बता दें कि महाशिवरात्रि पर्व पर भगवान केदारनाथ के कपाट खोलने की तिथि घोषित होगी। इसको लेकर कोविड 19 की गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया जायेगा तथा भक्तों द्वारा उचित दूरी के तहत पूजा-अर्चना, जलाभिषेक, कीर्तन भजन किये जायेंगे। इस अवसर पर दिल्ली के भक्तों की ओर से विशाल भण्डारे का आयोजन भी किया जायेगा।

प्रधान पुजारी बागेश लिंग ने बताया कि महाशिवरात्रि पर्व पर भगवान केदारनाथ के कपाट खोलने तथा पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली के ऊखीमठ से कैलाश रवाना होने की तिथि पंचाग गणना के अनुसार घोषित की जायेगी तथा कपाट खोलने की तिथि घोषित होने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। बताया कि मंदिर को लगभग आठ कुन्तल फूलों से भव्य रूप से सजाया गया है। उन्होंने बताया कि विगत दो वर्षों से वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के कारण भगवान केदारनाथ के कपाट खुलने के बाद यात्रा पर विराम लग गया था। इसलिए इस वर्ष स्थानीय तीर्थ पुरोहितों और व्यापारियों में भारी उत्साह बना हुआ है। महाशिवरात्रि पर्व पर केदारनाथ, मदमहेश्वर, विश्वनाथ मन्दिर गुप्तकाशी तथा ओंकारेश्वर मन्दिर में प्रधान पुजारियों की तैनाती भी की जायेगी।

Follow us on our Facebook Page Here and Don’t forget to subscribe to our Youtube channel Here