पैगंबर पर विवादित बयान का मामला : क्या दिल्ली,यूपी और बंगाल में हुई हिंसा के पीछे पाकिस्तान की साजिश ?

0
407

दिल्ली,ब्यूरो :  नूपुर शर्मा के पैगंबर पर दिए गए विवादित बयान को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है।शुक्रवार को दिल्ली,यूपी और बंगाल में हिंसक प्रदर्शन हुआ। जुमे की नमाज के बाद देश के कई राज्यों में जो हिंसा हुई वो कई सवाल खड़े कर गई। सवाल ये था जो हिंसा हुई वो क्या सोची समझी साजिश थी। एक साथ अलग-अलग राज्यों में हिंसक प्रदर्शन किसके कहने पर हुआ। इधर अब इस हिंसा के पीछे पाकिस्तान का हाथ होने की बात भी सामने आ रही है। दरअसल डिजिटल फोरेंसिक रिसर्च एंड एनालिटिक्स सेंटर ( DFRAC ) की रिपोर्ट कहती है कि पाकिस्तान के करीब 7 हजार से ज्यादा ट्विटर अकाउंट फेक न्यूज के सहारे भारत में दंगे भड़काने की साजिश रच रहे थे। जिससे अब सवाल ये उठ रहा है क्या दिल्ली,यूपी और बंगाल में हुई हिंसा के पीछे के पाक्सतान की साजिश है ?

DFRAC ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान के ARY न्यूज समेत कई चैनलों ने भारत से जुड़ी गलत खबरें चलाई हैं। ARY न्यूज ने चलाया कि ओमान के ग्रैंड मुफ्ती ने भारतीय प्रोडक्ट के बहिष्कार की घोषणा कर दी है। जबकि रिपोर्ट में पाया गया कि मुफ्ती ने पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी की आलोचना की थी और सभी मुसलमानों को इसके खिलाफ एकजुट होने को कहा था, लेकिन उनका ‘बॉयकॉट इंडिया’ ट्रेंड शुरू करने का ये दावा भ्रामक है। ये भी पढ़े-राजदूत के नेतृत्व में CM योगी से मिला इजराइली प्रतिनिधिमंडल, इन योजनाओं पर हुआ मंथन

news 1रांची में जमुे की नमाज के बाद हिंसक प्रदर्शन

रिपोर्ट के अनुसार सोशल मीडिया पर इस विवाद और हिंसा से जुड़े जो भी हैशटैग चल रहे हैं। और जब इन पोस्ट पर कमेंट्स को देखे तो  उसमें कमेंट करने वाले ज्यादातर यूजर्स पाकिस्तान के हैं। जिसे देख कर ऐसा लग रहा है कि पाकिस्तान इस मामले में भारतीय मुसलमानों को भड़का रहा है। बता दें कि DFRAC ने 60 हजार से ज्यादातर यूजर्स के अकांउंट का एनालिसिस किया है, जिसमें पाया गया है कि इन 60 हजार में से ज्यादातर यूजर्स के नॉन वेरिफाइड अकाउंट्स थे, जिन्होंने इस मामले से जुड़े ज्यादातर हैशटैग में कमेंट किए थे। वहीं बात अगर कमेंट करने वालों की जाए तो इनमें से करीब 7,100 लोग पाकिस्तान के थे। जिससे पता चलता है कि पैगंबर विवाद से जुड़े हैशटैग को पाकिस्तान के टि्वटर अकाउंट्स से भी आगे बढ़ाया जा रहा है। वहीं 3,000 अकाउंट्स सऊदी अरब से थे, 2,500 अकाउंट्स भारत से थे जबकी 1,400 इजिप्ट से और 1,000 से ज्यादा अमेरिका और कुवैत से थे। इधर अब सुरक्षा एजेंसियां भी इसकी जांच कर रही है कि क्या दिल्ली,यूपी और बंगाल में हुई हिंसा के पीछे के पाक्सतान की साजिश है ?ये भी पढ़े-Make In India : देश में बनेंगे 96 एडवांस फाइटर जेट, भारतीय वायु सेना ने शुरू किया काम