Kedarnath : तीर्थयात्री के सिर पर गिरा बोल्डर, हालत गंभीर

0
248

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ धाम यात्रा में श्रद्धालुओं को हर संभव स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं तत्परता के साथ उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया है। ताकि किसी भी तीर्थ यात्री का स्वास्थ्य खराब होने के साथ ही उनके साथ किसी तरह की दुर्घटना होने पर उन्हें तत्काल स्वास्थ्य लाभ उपलब्ध कराया जा सके।

baba

गुरुवार को केदारनाथ धाम जा रहा रायगढ़ (छत्तीसगढ़) निवासी 62 वर्षीय तीर्थ यात्री के सिर पर अचानक से पहाड़ी से पत्थर गिर गया। तीर्थ यात्री के सिर पर पत्थर लगने से वह घायल हो गया और उसके साथी उसे गौरीकुंड लाए। जहां उसके सिर पर लगी चोट का प्राथमिक उपचार किया गया। प्राथमिक उपचार के बाद घायल तीर्थ यात्री को 108 एंबुलेंस से सोनप्रयाग तक लाया गया। जहां पर यात्री की गंभीर हालत को देखते हुए जिला प्रशासन की टीम ने तत्काल उसे एम्स ऋषिकेश के लिए एअर लिफ्ट किया।

ghayal yatri

अब तक जिलाधिकारी के निर्देश पर त्वरित कार्यवाही करते हुए बीमार व घायल हुए 11 यात्रियों को एअर लिफ्ट कर उनकी जान बचाई गई। इनमें चोट लगने के पांच मामले शामिल हैं। बता दें कि केदारनाथ यात्रा मार्ग पर 16 चिकित्सा इकाईयों में अब तक 9,356 की ओपीडी की गई, जिसमें से 6683 पुरूषों व 2673 महिलाओं की जांच कर दवा वितरित की गई। इसके अलावा पैदल मार्ग पर 13 चिकित्सा इकाईयों में स्वास्थ्य सेवा के लिए समुचित व्यवस्था की गई है।

yatri

जिला चिकित्सालय के वरिष्ठ फिजिशियन डाॅ संजय तिवारी ने तीर्थयाथियों से कहा कि वे यात्रा के दौरान प्रत्येक एमआरपी पर अपने शरीर में आक्सीजन के स्तर की जांच करवाते रहें। साथ ही वहां पर 10 मिनट का विश्राम करने के बाद यात्रा शुरू करें। उन्होंने कहा कि यात्रा में गर्म एवं ऊनी वस्त्र साथ में रखें और धूम्रपान व अन्य मादक पदार्थों के सेवन से परहेज करें। यात्रा के दौरान पानी पीते रहना चाहिए और भूखे पेट यात्रा नहीं करनी चाहिए।

DR

उन्होंने कहा कि श्वांस रोग, हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप व ऊंचाई वाले क्षेत्रों में होने वाली बीमारियों से ग्रस्त रोगियों को विशेष सावधानी बरतने के साथ ही उन्हें अपने चिकित्सक का परामर्श पर्चा एवं चिकित्सक का संपर्क नंबर अवश्य साथ रखना चाहिए।

Kedarnath : तीर्थयात्री के सिर पर गिरा बोल्डर, हालत गंभीर