Kashipur में खैरुलनिशा 2013 से पति को मरा दिखाकर ले रही थी विधवा पेंशन

0
553

ऊधमसिंह नगर ब्यूरो- Kashipur में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां खैरुलनिशा नाम की एक महिला ने 2013 से फर्जी तरीके से अपने जिंदा पति को मृत दिखाकर विधवा पेंशन ले रही थी। पुलिस ने इस मामले में खैरुलनिशा और उसकी बेटी खिलाफ Kashipur कोतवाली में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

farud

खैरुलनिशा ने दस्तावेजों में पति को दिखाया मृत

Kashipur की रहने वाली महिला खैरुलनिशा ने रूपयों की लालच में अपने जिंदा पति मोहमद इकबाल को जिंदा होते हुए भी मार दिया। उसने विधवा पेंशन के लिए जमा होने वाले कागजों में उसे मरा दिखा दिया। काजीबाग निवासी उबेदुर्रहमान अंसारी ने सबसे पहले इस मामले को लेकर अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय में प्रार्थना पत्र दिया था।

बेटी के साथ मिलकर किया ये फ्रॉड

Kashipur कोतवाली पुलिस की छानबीन में अब तक सामने आया है कि खैरुलनिशा ने फर्जी दस्तावेज बनाने के लिए अपनी बेटी अंजुम इकबाल का साथ लिया। अंजुम इकबाल को कम्प्यूटर का अच्छा ज्ञान है तो इसलिए उसने पति को मृत दिखाने के लिए उसकी मदद से दस्तावेज को तैयार किया।

Kashipur

2013 से ले रही थी विधवा पेंशन, 2018 में सत्यापन भी करवाया

Kashipur में इस चौंकाने वाले मामले में छानबीन में ये सामने आया है कि  खैरुलनिशा 2013 से फर्जी कागजों के आधार पर पेंशन ले रही थी। यही नहीं उसने 2018 से इस का दोबारा से सत्यापन भी कराया। साफ है कि इस मामले में समाज कल्याण विभाग के कर्मचारियों की भी मिलीभगत है।

Kashipur कोतवाली में मां- बेटी के खिलाफ मुकदमा हुआ दर्ज

इस मामले की शिकायत करने वाले उबेदुर्रहमान ने पहले कटोराताल पुलिस चौकी से लेकर एसएसपी से शिकायत की थी। लेकिन जब इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उबेदुर्रहमान ने अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट में शिकायत दर्ज की। जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर Kashipur कोतवाली पुलिस ने मां और बेटी दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया है।

ये भी पढ़ें…

Haridwar News: शराब के लिए रुपये न देने पर पोते ने गंडासे से काट दी दादी की गर्दन