Friday, August 19, 2022
spot_img
Homeदेहरादूनउत्तराखंड के डाॅक्टरों का कमाल..बच्ची के हाथ पर कर दिया गत्ते का...

उत्तराखंड के डाॅक्टरों का कमाल..बच्ची के हाथ पर कर दिया गत्ते का प्लास्टर, तस्वीर वायरल

स्वास्थ्य मंत्री के गृह क्षेत्र में हाथ टूटने पर लगा दिया गत्ते का प्लास्टर, उत्तराखंड की स्वास्थ्य सुविधाओं का बुरा हाल, चिकित्सा केंद्रों में डाॅक्टर और कर्मचारी ही नहीं

देहरादून, ब्यूरो। उत्तराखंड के स्वास्थ्य मंत्री के गृह जनपद में ही स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर लोगों मजाक किया जा रहा है। एक ऐसा ही फोटो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में एक बालिका का हाथ टूटने पर उसका गत्ते का जुगाड़रूपी प्लास्टर डाॅक्टरों ने कर दिया है। यह तस्वीर पौड़ी जिले के रिखणीखाल चिकित्सा केन्द्र की है जिसमें डाॅक्टरों ने लगाया बच्ची के हाथ पर सही तरह से प्लास्टर करने की जगह गत्ते का प्लास्टर करके घर भेज दिया।

ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। जिसे बताया जा रहा है कि जनपद पौड़ी के रिखणीखाल चिकित्सा केन्द्र की है जहां चिकित्सकों ने पोखार गाँव की सारिका शर्मा पुत्री महेश शर्मा का हाथ टूटने पर उसे गत्ते का प्लास्टर करके घर भेज दिया। चिकित्सकों की दलील थी कि हमारे पास एक्सरे मशीन चलाने के लिए कर्मचारी नही हैं और ऑर्थोपेडिक चिकित्सक नही हैं इसलिए आप को इस जुगाड़ में रहना होगा। हालांकि स्वास्थ्य केंद्रों के लिए लाखों करोड़ो का सामान खरीदा गया पर अब मशीन धूल खा रही हैं और ग्रामीण इलाकों में मरीज परेशानी में जी रहे हैं। अब आप समझ सकते हैं कि जब स्थानीय लोगों के साथ स्वास्थ्य मंत्री के गृह जनपद का ही यह हाल है तो अन्य पहाड़ी जनपदों और मैदानी ग्रामीण क्षेत्रों का क्या हाल होगा। इसके साथ ही पर्यटन और तीर्थाटन के लिए देश-विदेश से पहुंच रहे यात्रियों को कैसे प्रदेश में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं देने का दावा किया जा रहा है। कई चिकित्सा केंद्र पीपीपी मोड पर चल रहे हैं तो कई सिर्फ रेफर सेंटर तक ही सीमित रह गए हैं। कहीं पर मशीन तो है पर टैक्निशियन नहीं नहीं जबकि कई जगह टैक्निशियन हैं पर मशीन ही नहीं या फिर लंबे समय से खराब पड़ी हैं। एसक्स-रे, अल्ट्रासाउंड और पैथोलाॅजी की कई जांचे सरकारी अस्पतालों में बाहर से करवाने के लिए मरीज मजबूर रहे हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments