Home धार्मिक कथाएं यहां मंदिर की सीढ़ियों पर पत्थर मारने से आती है पानी की...

यहां मंदिर की सीढ़ियों पर पत्थर मारने से आती है पानी की आवाज़

0
Ganga Mandir

Ganga Mandir: इस शिवलिंग से उभरता है हर साल अंकुर, निकलती है देवी- देवताओं की आकृतियां

Ganga Mandir: मां गंगा का वो मंदिर जिसकी सीढ़ियों पर पत्थर मारने से ऐसी आवाज़ आती है मानों पानी पर पत्थर मारा हो, ऐसा लगता है मानों इन सीढ़ियों के नीचे से स्वंय गंगा मइया बह रहीं हो, लेकिन आश्चर्य की बात तो ये है कि मंदिर से 5 किलोमीटर की दूरी पर गंगा मइया बह रही हैं।

ये मंदिर (Ganga Mandir) उत्तरप्रदेश के गढ़मुक्तेश्वर मंदिर में स्थित है जिसके दर्शन करने के लिए यहां हजारों की संख्या में लोग आते हैं। गंगा मइया (Ganga Mandir) का ये प्राचीन मंदिर 80 फीट ऊंचे एक टीले पर स्थित है जहां तक जाने के लिए 101 सीढ़ियां चढ़कर जाना होता था लेकिन फिर बार बार सड़क बनने के कारण ये सीढ़ियां घटकर 84 ही रह गईं।

इन सीढ़ियों पर अगर कोई पत्थर मारा जाता है तो ऐसा लगता है मानों ये पत्थर किसी सीढ़ी पर नहीं बल्की पानी पर मारा गया हो। पत्थर मारने पर जो आवाज़ आती है वो बिलकुल वैसी आती है जैसे की पानी पर पत्थर मारने से आती है।

ये भी पढ़ें:
Tulsi Ka Paudha
भूलकर भी तुलसी की पत्तियों को इस कारण न तोड़े, वरना हो सकता है अनर्थ

विज्ञान का इस विषय पर कहना है कि मंदिर (Ganga Mandir) की इन सीढ़ियों पर एक विशेष प्रकार का पत्थर लगा हुआ है जिस पर ऊपर से पत्थर मारने पर ऐसी आवाज़ आती है जैसे की पानी पर पत्थर मारा गया हो। इस मंदिर (Ganga Mandir) में मां गंगा की प्रतिमा के साथ साथ शिवलिंग व चार मुखी सफेद ब्रह्मा जी की मूर्ती भी है। इस मंदिर (Ganga Mandir) को लेकर मान्यता है कि यहां मांगी गई हर मुराद पूरी जरूर होती है।   

इसके साथ ही इस मंदिर (Ganga Mandir) में एक और रहस्य छिपा है जिसे आजतक कोई नहीं सुलझा पाया है। मंदिर में मौजूद शिवलिंग पर हर वर्ष एक अंकुर उभरता है और यहां के पुजारियों का कहना है कि इस अंकुर के फूटने पर इससे भगवान शिव के साथ साथ अन्य देवी देवताओं की आकृतियां भी निकलती हैं। इस चमत्कार को देख वैज्ञानिक तक हैरान हैं और कोई भी वैज्ञानिक इस रहस्य पर से आजतक पर्दा नहीं उठा पाया है।

इस मंदिर की स्थापना को लेकर किसी को भी कुछ भी मालूम नहीं है लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि इस मंदिर (Ganga Mandir) का इतिहास हज़ारों साल पुराना है। वहीं गंगा मइया पहले इस मंदिर (Ganga Mandir) से ही होकर गुजरा करतीं थी लेकिन फिर बाद में गंगा मइया ने अपने स्थान को बदलकर मंदिर से 5 किलोमीटर दूर अमरोहा जिले की सीमा से बहना शुरु कर दिया।

गंगा मइया का ये प्राचीन मंदिर (Ganga Mandir) लोगों के बीच काफी प्रसिद्ध है, यही वजह है कि हर साल यहां हज़ारों की संख्या में लोग आते हैं और मनोकामना मांगते हैं।

ये भी पढ़ें:
ये सपने कर सकते हैं आपको मालामाल, जाने कैसे?

 For latest news of Uttarakhand subscribe devbhominews.com

Exit mobile version