देहरादून (संवाददाता-अमित रतूड़ी): उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले नेताओं की अदला-बदली का दौर जारी है। वहीं, कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री पूर्व विधायक और महिला मोर्चा अध्यक्ष सरिता आर्य जल्द भाजपा का दामन थाम सकती हैं। आज कांग्रेस भवन में पत्रकारों के सवालों का उन्होंने कुछ ऐसे ही अंदाज में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा अगर उन्हें टिकट देती है तो वह भाजपा ज्वाइन कर लेंगी। कहीं न कहीं राजनेताओं और राजनेत्रियों की यह अदला-बदली अपना भविष्य को लेकर है। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले कांग्रेस के दिग्गज और भाजपा में कैबिनेट मंत्री रहे यशपाल आर्य और उनके पुत्र संजीव आर्य के कांग्रेस में शामिल होने के बाद से सरिता पार्टी में असहज महसूस कर रही हैं। यही नहीं उन्हें नैनीताल सीट से टिकट न मिलने का डर भी सता रहा है। कहीं न कहीं कांग्रेस के संजीव आर्य वहां से मजबूत कांग्रेस दावेदार के रूप में सामने हैं। ऐसे में सरिता का यह बयान सियासी गर्मी बढ़ा रहा है। अगर सरिता कांग्रेस छोड़ भाजपा में गईं और वहां भी टिकट के लाले पड़ गए तो उनकी एक तरह से फजीहत होनी तय है। हालांकि उन्होंने यह भी साफ कहा कि जब भाजपा टिकट देगी तब ही वह पार्टी का दामन थामेंगी।

सरिता आर्य

आपको बता दें कि नैनीताल से कांग्रेस की पूर्व विधायक और कांग्रेस प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष सरिता आर्य जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकती हैं। दरअसल यशपाल आर्य और उनके विधायक बेटे संजीव आर्य के कांग्रेस में वापस आ जाने से सरिता आर्य को नैनीताल विधानसभा सीट से अपनी दावेदारी खतरे में नजर आ रही है। क्योंकि संजीव आर्य तमाम सर्वे रिपोर्ट में सरिता आर्य पर चुनाव के लिहाज से भारी पड़ते नजर आ रहे हैं । ऐसे में सरिता आर्य का अब टिकट कटना तय लगता है। यह सब एक-दो दिन में साफ हो जाएगा कि कांग्रेस किस पर दांव खेलती हैं और सरिता को आखिर किस तरह मनाती भी हैं या फिर सरिता खुद ही भाजपा में शामिल हो जाएंगी।

YOU MAY ALSO LIKE

Leave your comment

Your email address will not be published.