भारत की 94 साल की भगवानी ने किया नाम रोशन, इस अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में जीता गोल्ड और ब्रॉन्ज मेडल

0
170

नई दिल्ली, ब्यूरो। भारत में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। चाहे उम्रदराज हों या फिर युवा या टीन एजर्स। कई बार हमारे देश के खिलाड़ी अपने शानदार प्रदर्शन से देश का नाम रोशन करने के साथ ही अपने और अपने परिवार के साथ ही इलाके के लिए भी मिसाल पेश कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही कमाल किया है भारत की 94 वर्षीय महिला भगवानी देवी ने। जानकारी के अनुसार भारत की 94 वर्षीय भगवानी देवी डगर (Bhagwani Devi Dagar) ने फिनलैंड में आयोजित वर्ल्ड मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 100 मीटर स्प्रिंट दौड़ प्रतिस्पर्धा में शानदार प्रदर्शन करते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम किया है। यही नहीं उन्होंने शाॅटपुर में भी ब्राॅन्ज मेडल अपने नाम किया है। उनकी इन उपलब्धियों की चहुंओर चर्चा और तारीफ हो रही है।

भारत की 94 साल की भगवानी ने किया नाम रोशन, इस अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में जीता गोल्ड और ब्रॉन्ज मेडल

bhavwani devi ne

भारत की 94 साल की भगवानी ने किया नाम रोशन, इस अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में जीता गोल्ड और ब्रॉन्ज मेडल

100 मीटर स्प्रिंट दौड़ में गोल्ड मेडल और शाॅटपुर में ब्राॅन्ज मेडल अपने नाम किया

94 साल की भगवानी देवी ने उम्र को महज एक नंबर वाली कहावत को चरितार्थ किया है। बता दें कि फिनलैंड में भारत की इंटरनेशनल एथलीट भगवानी देवी ने वर्ल्ड मासटर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 100 मीटर दौड़ मात्र 24.74 सेकंड में पूरी कर ली। इसके अलावा उन्होंने शाॅटपुर में भी ब्राॅन्ज मेडल पर अपना कब्जा जमाया है। भगवानी देवी के साहस और उम्रदराज होने के बाद भी नंबर वन एथलीट के तौर पर काफी तारीफ की जा रही है।

बता दें कि इससे पहले इंडिया बुजुर्ग एथलीट भगवानी देवी (Bhagwani Devi Dagar) ने चेन्नई में राष्ट्रीय मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में एक नहीं बल्कि तीन-तीन गोल्ड मेडल अपने नाम किए थे। इसी के आधार पर उन्होंने विश्व मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप के लिए अपना टिकट पक्का किया था। आज भारत का प्रतिनिधित्व करने पर उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया है। यही नहीं, इससे पहले भगवानी देवी ने दिल्ली स्टेट एथलेटिक चैंपियनशिप में 100 मीटर डैश, भाला फेंक और शॉट पुट स्पर्धाओं में तीन गोल्ड मेडल अपने नाम किए थे। राष्ट्रीय स्तर के बाद अब उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी शानदार प्रदर्शन कर अपना और देश का नाम ऊंचा किया है।