Wed. Apr 1st, 2020

प्रोटीन की कमी से होती हैं कई समस्याएं, नजरअंदाज न करें

1 min read

शरीर की मांसपेशियों को बिल्डअप करने से लेकर उसे ऊर्जा प्रदान करने तक का काम प्रोटीन ही करता है। इसलिए अगर शरीर में प्रोटीन की कमी हो जाए तो इसका असर शरीर की कार्यप्रणाली पर साफतौर पर दिखाई देता है। व्यक्ति खुद भी अपने शरीर में आ रहे बदलावों के आधार पर इस बात का पता लगा सकता है कि शरीर को प्रोटीन आवश्यकता अनुरूप नहीं मिल रहा है। तो चलिए जानते हैं उन संकेतों के बारे में, जो प्रोटीन की कमी को दर्शाते हैं−त्वचा समस्याएं शरीर में प्रोटीन की कमी का सबसे पहला असर आपकी स्किन, बाल और नाखूनों पर दिखाई देता है। आवश्यकता अनुरूप प्रोटीन न मिलने पर त्वचा में रेडनेस, पतले व फीके बाल, टूटे नाखून जैसी समस्याएं देखने को मिल सकती हैं। इसलिए इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।स्किन का लटकना प्रोटीन वास्तव में लंबी श्रृंखला वाले अमीनो एसिड से बना होता है, जिसे मांसपेशियों का निर्माण खंड भी कहा जाता है। ऐसे में जब शरीर में प्रोटीन की कमी होती है तो इसका सीधा असर मांसपेशियों पर दिखाई देता है। प्रोटीन की कमी से धीरे−धीरे मसल्स लॉस होने लगता है।हडि्डयों को खतरा हडि्डयों की मजबूती के लिए सिर्फ कैल्शियम ही जरूरी नहीं है, बल्कि प्रोटीन हडि्डयों की ताकत और उसके घनत्व को बनाए रखने में एक अहम भूमिका निभाते हैं और जब आप पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन नहीं लेते तो हडि्डयां कमजोर हो जाती हैं, जिससे फ्रैक्चर का खतरा कई गुना तक बढ़ जाता है।प्रभावित होता विकास प्रोटीन केवल मांसपेशियों या हड्डी के लिए ही आवश्यक नहीं है, बल्कि यह व्यक्ति के समग्र विकास को प्रभावित करता है। खासतौर से, बच्चों के लिए तो प्रोटीन बेहद ही आवश्यक है। प्रोटीन की कमी होने पर उनका विकास अवरूद्ध होता है। कैलोरी इनटेक का बढ़ना आपको शायद जानकर हैरानी हो लेकिन सिर्फ खानपान के कारण ही प्रोटीन की कमी नहीं होती, बल्कि प्रोटीन की कमी आपके खानपान की आदतों को भी प्रभावित करती हैं। दरअसल, जब आप पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन का सेवन करते हैं, तो आपको लंबे समय तक पेट भरे होने का अहसास होता है। जिससे आपको क्रेविंग या भूख का अहसास नहीं होता। वहीं प्रोटीन की कमी होने पर व्यक्ति की भूख सामान्य से अधिक बढ़ जाती है, जिससे उसका कैलोरी इनटेक भी बढ़ जाता है।संक्रमण की संभावना प्रोटीन की कमी आपके इम्युन सिस्टम पर भी नकारात्मक प्रभाव डालती है। इसके कारण व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। जिससे व्यक्ति को कई तरह के इंफेक्शन होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। फैटी लिवर की समस्याप्रोटीन की कमी का एक संकेत फैटी लिवर के रूप में भी उभरकर सामने आता है। शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर लिवर की कोशिकाओं में वसा जमने लगता है, जो बाद में एक गंभीर परेशानी बन जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *