Sat. Jan 25th, 2020

पहाड़ों पर भारी बर्फबारी होने से पर्यटकों में खुशी की लहर

1 min read

देहरादून ।उत्तराखंड और हिमाचल मै भारी बर्फबारी होने से  जहां पर्यटकों मै काफी खुशी है वहीं बर्फबारी से आम लोगों का जीवन दुश्वार हो गया है। दिसंबर माह से उत्तराखंड और हिमाचल मै काफी बर्फबारी हुई है   । बर्फबारी होने से दोनों राज्यो मै पर्यटकों का जमावड़ा लगा हुआ है लेकिन बर्फ से सबके जमी होने के कारण स्थानीय लोगो और पर्यटकों को आवाजाही करने मै भारी दिक्कतें आ रही है। उत्तराखंड के मसूरी चकराता औली मै इन दिनों 3 से 4 फिट बर्फ  जमी हुई है। लेकिन सैकड़ों पर बर्फ जमने से लोगो को आवाजाही करने मै भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।हालांकि शासन प्रशासन सड़कों मै पड़े बर्फ की मशीन कि  सहायता से जरूर हटाने मै लगा हुआ है लेकिन बर्फबारी का दौर लगातार जारी है जिससे शासन प्रशासन को बर्फ हटाने मै दिक्कतें हो रही है।वहीं हिम क्रीड़ा स्थल औली की बात की जाय तो औली मै लगभग  4 फिट बर्फ पड़ी हुई है औली मै प्रतिदिन लगभग 500 से 700 प्रयाटक औली का दीदार कर रहे है।लेकिन औली जाने वाली सड़क पर बर्फ जमने से सड़क बार बार अवरूद्ध हो रही है। जिससे पर्यटकों को या रोपवे से औली जाना पड़ रहा है।या तो उन्हें मायूस हो कर वापस जाना पड़ रहा है हालांकि लों नि वि और आई टी वी पी द्वारा मशीनों से बर्फ हटाई जा रही है। गौरतलब है कि फरवरी मै औली मै नेशनल चैंपियनशिप का आयोजन किया जाना है।जिसके लिए सभी तैयारी पूरी कर ली गई है। वहीं दूसरी ओर  बर्फबारी से चमोली जिले के कई गांव का संपर्क टूट गया है। कई गांव मै बिजलीसड़क आदि सुविधाएं ठप है।जिससे ग्रामीणों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़। रहा है।ग्रामीण अपनी रोजमर्रा के सामान के लिए कई किमी पैदल चलकर अपने पीठ पर सामान लेकर अपने घर तक ले जा रहे है।हालांकि प्रशासन बिजली पानी और सड़क खोलने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य कर रहा है। इस वर्ष भारी बर्फबारी होने से ग्रामीण काफी खुश है स्थानीय ग्रामीण रंजीत रावत का कहना है कि  इस साल अच्छी बर्फबारी हुई है जिससे सेब तथा अन्य फैसले अच्छी होगी जिससे ग्रामीणों को रोजगार मिलेगा। वहीं स्थानीय स्कीयर महेंद्र भूजवान का कहना है कि औली मै खूब पर्यटक अा रहे है और  स्की का आनंद उठा रहे है जिससे उन्हें भी अच्छा रोगजार मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *